न्यूज़

अवैध क्रॅशर प्लांट के खिलाफ रामाराम के ग्रामीण करेंगे एनएच जाम—कुंजाम

दो बार ग्राम सभा मेंं क्रॅशर प्लांट के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने के बाद भी चल रहा प्लांट.
पेशा कानून को लेकर सरकार की कथनी और करनी में विरोधाभास.

सुकमा. भाकपा के पूर्व विधायक व नेता मनीष कुंजाम ने कहा कि रामाराम में कई वर्षों से अवैध क्रेशर चल रहा है. कुछ माह पूर्व तक के कलेक्टर को ग्रामीणों द्वारा क्रॅशर व खदान के खिलाफ शिकायत करने पर बंद कर दिया गया था. लेकिन एकाध सप्ताह में इसे पुनः शुरू किया गया. उल्लेखनीय है कि जिले के प्रमुख अधिकारियों के समक्ष पूर्व में ग्राम सभा द्वारा दो मर्तबा सर्व सम्मति से क्रॅशर व गिट्टी खदान के खिलाफ प्रस्ताव पारित कर बंद करने का निर्णय सुनाया था. बावजूद क्रेशर चल रहा है.

मनीष कुंजाम ने कहा कि मौजूदा प्रदेश की सरकार पेशा कानून को प्रभावी तरीके से लागू करने की बात कही थी.अब ये जो कुछ हो रहा है उससे तो लगता है कि कथनी-करनी में स्पष्ट और पूरी तरह विरोधाभास है. स्थानीय विधायक व मंत्री का सह के बिना क्रेशर चालू हो ही नहीं सकता था. वैसे भी लखमाराम को कानून कायदे और आदिवासीयों के हितों से कोई वास्ता होता तो नहीं है.

भ्रष्टाचार और अवैध कारोबार पर प्रशासन मौन…
मनीष कुंजाम ने कहा कि ताज्जुब होता है प्रशासन कानून के मुताबिक काम करने के लिए होता है, परंतु यहां गांव के आदिवासी ग्रामीण याद दिलाते-दिलाते परेशान हो चुके हैं. प्रशासन मानो आंख, कान बंद करके मौन धारण कर लिया है. संविधान के मुताबिक अनुसूचित क्षेत्र कहने में अब शर्म लगने लगा है. गांव व आस पास के लोग सोचने लगे हैं कि जल्दी क्रेशर प्लांट के सामने राष्ट्रीय राजमार्ग को जाम कर देंगे. ताकि प्रशासन की आंख कान खुले.

Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Close