न्यूज़

सुकमा: एनएचएम के सविंदा कर्मचारी नियमितिकरण की मांग को लेकर हड़ताल पर

कोराना प्रकोप के बीच कर्मचारियोंं की हड़ताल से स्वास्थ्य सेवाओं पर पड़ेगा असर.

सुकमा. कोरोना प्रकोप के बीच नियमितीकरण की मांग पूरी नहीं होने पर सुकमा जिले के संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी रविवार से हड़ताल पर चले गए. कर्मचारियों का कहना है कि, इस बुरे दौर में भी वह अपनी जान जोखिम में डालकर काम कर रहे हैं, लेकिन सरकार उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दे रही. जिससे मजबूर होकर उन्होंने हड़ताल पर बैठने का फैसला किया है. इस संदर्भ में रविवार को एनएचएम कर्मचारियों ने सुकमा एसडीएम को ज्ञापन सौंपकर अनिश्चिलकालीन हड़ताल पर जाने की सूचना दी है.


जिले के एनएचएम कर्मचारी संघ का कहना है कि, पिछले 15 वर्षों से प्रदेश की स्वास्थ्य सुविधाओं को सुदृढ़ बनाने में लगे हैं. इसके बावजूद हमारा नियमितीकरण नहीं किया गया. वर्तमान सरकार ने भी अपने घोषणा-पत्र में नियमितीकरण को शामिल किया था, लेकिन आज इसपर कोई विचार तक नहीं किया जा रहा. उन्होंने आगे बताया कि, अपनी एक सूत्रीय मांग को लेकर 13 हजार स्वास्थ्य संविदा कर्मचारियों के नियमितिकरण के लिए अनिश्चितकालीन हड़ताल कर रहे हैं.


वादा निभाये सरकार—पाठक संविदा कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष नवीन पाठक ने कहा कि कि छत्तीसगढ़ की वर्तमान भूपेश सरकार ने चुनाव से पहले संविदा कर्मचारियोंं को नियमित करने का वादा किया था. सरकार ने अपने घोषण पत्र में भी इसे शामिल किया था. लेकिन सरकार बनने के डेढ़ साल से भी ज्यादा समय बीत जाने के बाद भी सरकार इस ओर ध्यान नहीं दे रही है. इस कोरोना महामारी में अपनी जान की परवाह किए बिना कोरोना मरीज की सैंपल जांच कर, आपातकालीन स्थिति में सेवा दे रहे हैं. बावजूद सरकार कर्मचारियों की समस्याओं का  निराकरण नहीं कर रही है.

Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Close