न्यूज़

सैकड़ों भक्तों की आस्था का केन्द्र रहे दुर्गा मंदिर पर नगर प्रशासन ने चलाया बुलडोजर, वहीं रसूखदार की दुकान पर कार्रवाई करने से कांप रहे हाथ…

नगर प्रशासन के दोहरे मापदण्ड से लोगों में भारी आक्रोश, सड़क चौड़ीकरण बनी प्रशासन के लिए सिरदर्द…

पवन शाहा

दोरनापाल. जिले के दोरनापाल में वर्षों से क्षेत्र के सैकड़ों भक्तों की आस्था का केन्द्र रहे दुर्गा मंदिर पर नगर प्रशासन का अमला बुलडोजर चलाने में देर नहीं की, चंद मिन​टों में ही आस्था के केन्द्र को नेस्तानाबूद कर दिया. लेकिन वहीं एक रसूखदार की दुकान पर कार्रवाई करने में प्रशासन के हाथ कांपने लगे हैं. सड़क चौड़ीकरण के नाम पर इन दिनों नगर में विवाद की स्थिति बनी हुई है. नेशनल हाईवे सुकमा—कोंटा से शबरी नदी रोड पर एक करोड़ 1लाख 70 हजार की लागत से 650 मीटर का फुटपाथ व नाली सहित सीसी सड़क का निर्माण किया जाना है.

सड़क चौड़ीकरण को लेकर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई नगर प्रशासन द्वारा की जा रही है. कार्रवाई के दौरान नगर प्रशासन का दोहरा मापदंण्ड साफ नजर आ रहा है. सड़क के आजू—बाजू मकानों को हटाया जा रहा है, इतना ही नहीं दुर्गा मंदिर पर भी बुलडोजर चला दिया गया. लेकिन एक रसूखदार की दुकान पर प्रशासन कार्रवाई करने से बच रही है. इस बात से लोगों के बीच भारी आक्रोश है. चूंकि यह मंदिर वर्षो पुरानी होने के कारण इस मंदिर से लोगो की आस्थाएं जुड़ीं हुई हैं. जिसके अतिक्रमण हटाने के विरोध में नगर के बुजुर्गों व महिलाएं भक्तों ने प्रशासन से मंदिर को न हटाने को लेकर आग्रह किया. जिसके बाद प्रशासन से कानूनी दांवपेच को आधार बनाकर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई करने में जुटी है.

सड़क के बीच से दोनो ओर 7—7 मीटर चौड़ी सड़क बनेगी…
नगर पंचायत दोरनापाल में 1करोड़ 1लाख 70 हजार लागत से 650 मीटर लंबी सड़क प्रस्तावित है. 14 मीटर लंंबी सड़क के दोनो ओर फुटपाथ और नाली का निर्माण किया जाना है. सड़क जहां से शुरू हो रही है वहां दाईं ओर दुकानें हैं. प्रशासन का अमला दुकानों को छोड़ पिछे बने मकानों और मंदिर पर अतिक्रमण हटा रहा है. मोहल्ले के लोगोंं का कहना है कि वे विकास के लिए अपनी जगह देने को तैयार है लेकिन अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई सब पर एक समान हो. दुकान रसूखदार का होने के कारण तोड़—फोड़ नहीं किया जा रहा है. सभी माकानों को तोड़ा जा रहा है तो दुकान को क्योंं छोड़ दिया गया है.

विकास का नाम देकर मंदिर पर बुलडोजर चलाना गलत—रामलाल गुप्ता
गंगेश्वरी माता मंदिर के ट्रस्टी रामलाल गुप्ता ने कहा कि विकास की आड़ में लोगों की आस्था के साथ रसूखदार इंद्र बहादुर सिंह की राजनीति स्पष्ठ नजर आ रही है. जग जाहिर हैं की मंदिर में अतिक्रमण को हटाने से पहले इंद्र बहादुर सिंह का निजी भवन भी अतिक्रमण के दायरे में आ रहा है. नियमों के अनुसार अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही सामने से होनी चाहिए. बावजूद नगर प्रशासन द्वारा रसूखदार पर मेहरबानी दिखा रही है. प्रशासन से मंदिर के स्थल परिवर्तन के लिए मौहलत मांगा गया था. जो नहीं दिया गया.

प्रशासन के लिए विकास प्राथमिकता—लहरे
दोरनापाल नायाब तहसीलदार ने महेन्द्र लहरे ने कहा कि नियमो के अनुसार प्रशासन के लिए आस्था और विकास में, प्राथमिकता विकास को दिया गया हैं. बेशक प्रशासन की इस कार्यवाही पर लोगों की आस्था को आहत हुआ हैं. लेकिन विकास कार्य मे बाधा पहुंचाने वाले सभी पर प्रशासन कार्यवाही करेगा. लोगो को भी विकास के लिए अपनी सहभागिता देने होगी.

Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Close