करियरखेलटेक्नॉलोजीदुनियादेशन्यूज़प्रदेशमनोरंजनविडीओसीजी 26 स्पेशलसोशल

लॉक डाउन के दौरान वनोपज संग्राहकों के चेहरे पर आयी रौनक, 2029 क्विंटल वनोपज की हुई खरीदी…

जिले में प्राथमिक वनोपज सहकारी समिति और स्व सहायता समूहों के माध्यम से की जा रही खरीदी..

सुकमा. लॉक डाउन के दौरान सुकमा जिले के ग्रामीण संग्राहकों द्वारा जंगलों से संग्रहित किये गये वनोपज आज उनकी आर्थिक स्थिति सुधारने में मददगार साबित हो रही है. जिले में वन विभाग के द्वारा 25 प्राथमिक वनोपज सहकारी समितियों के जरिये वन धन विकास योजनान्तर्गत न्यूनतम समर्थन मूल्य पर राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के महिला स्व सहायता समूहों के माध्यम से लघु वनोपज का संग्रहण किया जा रहा है. इन महिला समूहों द्वारा अपने गांवों सहित प्रमुख बसाहटों में लघु वनोपज का संग्रहण कर तत्काल संग्राहकों को नकद भुगतान किया जा रहा है.

ADVT


             राज्य शासन के मंशानुरूप वन धन विकास योजनांतर्गत महिला स्व सहायता समूहों द्वारा जिले में अब तक 2029 क्विंटल जिसमें 1 हजार 595 क्विंटल आटी इमली,154 क्विंटल महुआ फूल, 7 क्विंटल हर्रा, 161 क्विंटल बेहड़ा, 99 क्विंटल चरोटा बीज, 9 क्विंटल फूलझाडू इत्यादि अन्य लघु वनोपज की खरीदी की गई है. राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के महिला स्व सहायता समूहों के माध्यम से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर क्रय किये जा रहे वनोपज का भुगतान संग्राहकों को त्वरित किया जा रहा है. अब तक 56 लाख  54 हजार 372 रुपये का वनोपज क्रय किया जा चुका है.

अधिकारी कर रहे प्रोत्साहित…

वन विभाग के उप वनमंडलाधिकारियों, रेंज आफिसरों सहित अन्य मैदानी अमला और प्राथमिक वनोपज सहकारी समितियों के पदाधिकारियों के द्वारा सभी ईलाकों में महिला स्व सहायता समूहों को उच्च गुणवत्ता के वनोपज संग्रहण करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है. जिले में वन धन विकास योजनान्तर्गत वनोपज संग्रहण कार्य में ग्रामीण आजीविका मिशन के महिला समूहों की व्यापक भागीदारी के माध्यम से ग्रामीण संग्राहकों को उनके लघु वनोपज का वाजिब दाम उपलब्ध कराया जा रहा है. जिले में इन महिला समूहों की सहभागिता से आने वाले दिनों में ज्यादा से ज्यादा वनोपज का संग्रहण होने की उम्मीद है.

सोशल डिस्टेंस की समझाईश भी..
कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम हेतु सोशल डिस्टेंस सम्बन्धी दिशा-निर्देशों का पालन करने की समझाईश दी जा रही है. जिसके तहत वनोपज संग्रहण के दौरान एक-दूसरे से निर्धारित दूरी, मास्क पहनने या गमछे-रुमाल से फेस कवर करने इत्यादि के बारे में महिला समूहों को अवगत कराया जा रहा है. वहीं ग्रामीण संग्राहकों को भी इस सम्बंध में जागरूक किये जाने कहा जा रहा है.

Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Close