न्यूज़

सुकमा: 40 दिन में ही क्षतिग्रस्त हुआ 40 लाख का स्टॉप डैम, अधिकारियों ने कहा फिर बना लेंगे

जल संसाधन विभाग द्वारा ग्राम बुड़दी में मनरेगा के तहत डेढ़ माह पूर्व बनाया गया था डैम.

मनरेगा में न मजदूरी की गारंटी और न ही स्टॉप डैम की.

सुकमा. कोरोना संकट काल में केन्द्र सरकार ने ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना पर फोकस किया था. इस योजना के तहत छत्तीसगढ़ सरकार ने भी ग्रामीण रोजगार को बढ़ावा देते हुए स्टॉप डैम, चेक डैम, तालाब निर्माण समेत विभिन्न रोजगार मूलक निर्माण कार्यो के लिए करोंड़ों की स्वीकृति दी. बारिश के मौसम में भी ग्रामीणों को रोजगार मिल सके इस पर विशेष जोर दिया गया, लेकिन अधिकारियों की कमीशनखोरी ने इस योजना का बंटाधार कर दिया है. कोरोना संकट काल में न समय पर ग्रामीणोंं को मजदूरी मिली और न ही स्टॉम डैम टिक पा रहे हैं.

जिले के ग्रामीण इलाकोंं में जल समस्या से निपटने और बारिश का पानी रोकने के लिए जिला पंचायत द्वारा ग्राम पंचायत बुड़दी में मनरेगा योजना के तहत 10 मीटर लंबे स्टॉप डैम निर्माण के लिए 39.22 लाख की स्वीकृति दी थी. स्टॉप डैम का निर्माण जल संसाधन विभाग द्वारा कराया गया. इरीगेशन विभाग द्वारा डैम का काम इतने घटिया तरीके से कराया गया है, कि 40 दिन में ही स्टॅाप डैम का विंग वाल नाले का बहाव नहीं झेल पाया और टूट गया.

मनरेगा में मजदूरी भुगतान भी नहीं…
कोरोना संकट काल में मजदूरों को गांव में ही रोजगार मिले इसके लिए मनरेगा के तहत निर्माण कार्यों की स्वीकृति दी गई. वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए मजूदरी का भुगतान नगद करने का फैसला लिया गया. लेकिन जिले के अंदरूनी इलाकों में केन्द्र की महत्वाकांक्षी योजनाओं को विभागीय अधिकारी ही पलीता लगा रहे हैं. बुड़दी स्टॉप डैम में 39.22 लाख में 12.16 लाख रूपये मजदूरी भुगतान और 27.06 लाख निर्माण सामग्री सप्लाई के लिए दिया गया. अधिकारियोंं के अनुसार 12 लाख में साढ़े पांच लाख की राशि मजदूरी भुगतान किया गया है. इधर ग्रामीणों का कहना है कि उन्हें मजदूरी की पूरी राशि आज तक नहीं मिली है.

साईट इंजीनियर ने माना कार्य में बरती गई लापरवाही…
स्टॉप डैम की देखरेख करने की जिम्मेदारी सब इंजीनियर एमएल यादव को दी गई थी. सब इंजीनियर ने माना की निर्माण कार्य में लापरवाही बरती गई है. उन्होनें बताया कि स्टॉप डैम का निर्माण कार्य प्रगतीरत है. भारी बारिश की वजह से नाले का जल स्तर एकाएक बढ़ गया. जिससे स्टॉप डैम का एक विंग वाल बहाव को झेल नहीं पाया और टूट गया. बारिश खत्म होते ही पुन: निर्माण कराया जायेगा.

घटिया निर्माण पर बोले ईई लकड़ा, कोई बड़ी बात नहीं, फिर बना लेंगे…
जल संसाधन विभाग द्वारा बनाये गये घटिया निर्माण पर मुख्य कार्यपालन अभियंता जेके लकड़ा का कहना है कि बारिश की वजह से स्टॉप डैम के एक तरफ का साईड वाल क्षतिग्रस्त हुआ है. कोई बड़ी बात नहीं है फिर से उसे बना लिया जायेगा. स्टॉप डैम का निर्माण अभी पूरा नहीं हुआ है. 39.22 लाख मेंं केवल साढ़े पांच लाख रूपये का मजदूरी भुगतान हुआ है.

Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Close