न्यूज़

मुठभेड़ में सुकमा के जवानों ने 5 लाख के इनामी नक्सली को मार गिराया

घटनास्थल से नक्सली शव, एक 315 बोर बंदूक समेत बड़ी मात्रा में विस्फोटक सामग्री बरामद

मारे गये नक्सली पर ओड़िसा सरकार ने भी चार लाख का ईनाम रखा था.

सुकमा. छत्तीसगढ़ और ओड़िशा की सीमा पर आतंक फैलाने वाले नक्सली को सुकमा पुलिस ने मार गिराया है. मारे गये नक्सली की पहचान पोडियम कामा उर्फ नागेश के रूप में हुई है, जो आंध्र—ओड़िसा बार्डर स्पेशल जोनल कमेटी में एसीएम रैंक का था. छत्तीसगढ सरकार ने पांच लाख और ओड़िसा सरकार ने चार लाख की अलग—अलग ईनाम की घोषण कर रखी है. सुकमा डीआरजी की टीम ने घटनास्थल से नक्सली का शव, एक 315 बोर बंदूक, टिफिन बम समेत बड़ी मात्रा में विस्फोटक सामग्री और नक्सल साहित्य बरामद किया है.

पुलिस की खुफिया विभाग को पुसपाल थाना क्षेत्र के चितलनार और मुंडवाल के जंगल में कुछ माओवादियों की उपस्थिति है. सुकमा एसडीओपी प्रतीक चतुर्वेदी के हमराह डीआरजी की पार्टी नक्सल गश्त सर्चिंग हेतु चितलनार व मुंडवाल के जंगल की ओर रवाना हुई. संभावित इलाके की सर्चिंग के दौरान हथियार बंद नक्सलियों ने पुलिस पार्टी पर फायरिंग कर दिया. जवाबी कार्रवाई करते हुए जवानों ने भी नक्सलियों पर फायरिंग की. जवानों के बढ़ते दबाव को देख नक्सली घने जंगल व पहाड़ का आढ़ लेकर भाग गये.

6 वर्षों से कालीमेला क्षेत्र में सक्रिय था…
मुठभेड़ के बाद घटनास्थल की सर्चिंग करने पर एक पुरूष नक्सली का शव बरामद हुआ. मृत नक्सली सुकमा जिले के भेजी थाना क्षेत्रांतर्गत भंडारपदर गांव का निवासी था. विगत 6 वर्षों से आंध्र—ओड़िसा के कालीमेला क्षेत्र में सक्रिय था. घटनास्थल से से जवानों ने 315 बोर बंदूक, एक नग टिफिन बम, दो नग हैण्ड ग्रेनेड, तीन नग डेटोनेटर, कोर्डेक्स वायर, नक्सल पर्चा, नक्सली साहित्या और अन्य दैनिक उपयोगी सामग्री बरामद किया.

पुसपाल थाना क्षेत्र के चितलनार और मुंडवाल के जंगल में लंबे समय से माओवादियों की मौजूदगी की सूचना मिल रही थी. 17 अप्रैल को भी इसी सूचना पर डीएसपी प्रतीक चतुर्वेदी के नेतृत्व में डीआरजी की पार्टी संभावित इलाकें लिए रवाना की गई थी. यहां माओवादियों के साथ हुए मुठभेड़ में जवानोंं ने पांच लाख के एसीएम रैंक के नक्सली को मार गिराया है. इस मुठभेड़ में कई नक्सलियों के घायल होने की भी सूचना मिली है. माओवादी का शव और हथियार बरामद कर लिया है.

सिद्धार्थ तिवारी, एएसपी सुकमा.

Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Close